Gurjar Samaj गुर्जर समाज के पिछड़ेपन का कारण

(गुर्जर समाज के पिछड़ेपन का कारण)

भाईयों आज हमारा गुर्जर समाज तीन वर्गों मे बंट चुका है।।
और इन बंटे हुऐ वर्गों के कारण ही गुर्जर समाज
पिछड़ा हुआ है॥
(a).“उच्च वर्गीय गुर्जर”
जिनको गुर्जर एकता से कोई मतलब नहीं क्यों कि उनके पास सब कुछ है, उनके लिए ये बात फालतू है उनका खून ठंडा हो चुका है,जब तक उन पर मुसीबत नहीं आएगी और दुनिया गुर्जर नाम सुनकर जूते नहीं मारेगी तब तक उनको एकता का मतलब समझ नहीं आएगा।।
(b). “मध्यम वर्गीय गुर्जर”
जो पूरी कोशिश कर रहे है गुर्जर
एकता के लिए,गुर्जरों की आन बान और शान इनमे बरकरार है इनमें जोश और खून मे उबाल अब भी है और ये एकता चाहते है।
(c).“निम्न वर्गीय गुर्जर”
इनमें एकता की भावना और
जोश कूट कूट कर भरा है पर ये मजबूर है॥
अपनी गरीबी की वजह से कि कोई काम करके अपने परिवार का पालन पोषण करें।
हम सब को पता है की गुर्जरों में
गरीबी केवल गुर्जर एकता न होने और एक दूसरे का साथ न देने कि वजह से है।
मेरे गुर्जर भाईयों आपस में टांग खिचाई बंद करों
नहीं तो हमें पछताने का भी वक्त नहीं मिलेगा।
अभी भी हमारे पास वक्त है अपनी सोच में समानता लाओ।
किसी भी गुर्जर को देख कर मुँह मत घुमाओ,
गुर्जरों में एकता की भावना जगाने के लिए सभी गुर्जर भाई और बहन एक बार इस पोस्ट को शेयर जरूर करें॥
जय गुर्जर जय गुर्जर देश
गुर्जर एकता जिंदाबाद ।।

Post a comment

0 Comments